यूपी: चोरी के शक में लड़कों को पेशाब पीने और मिर्च खाने को मजबूर किया गया

यह भयानक घटना एक भयानक सवाल छोड़ती है कि मनुष्य अपने मूल्यों को क्यों खो रहे हैं, और क्या चीज़ उन्हें ऐसी क्रूरता के साथ कार्य करने के लिए प्रेरित कर रही है।

सिद्धार्थनगर: उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर में एक भयावह घटना में 10 और 15 साल के दो नाबालिग लड़कों को चोरी के संदेह में अकथनीय यातना दी गई। अपराधियों ने लड़कों को पेशाब पीने, हरी मिर्च खाने और अज्ञात इंजेक्शन लगाने के लिए मजबूर किया, यह सब घृणित वीडियो में कैद हो गया, जिससे आक्रोश फैल गया।

परेशान करने वाला हमला कैमरे में कैद हुआ

सोशल मीडिया पर प्रसारित हो रहे वीडियो में लड़कों द्वारा सहे गए कष्टदायक कष्ट को दर्शाया गया है। एक वीडियो में, लड़कों को हरी मिर्च खाने के लिए मजबूर किया गया, मूत्र से भरी बोतल के साथ उनका पीछा किया गया, जबकि पुरुषों के एक समूह द्वारा मौखिक रूप से दुर्व्यवहार किया गया और धमकी दी गई।

चोरी का आरोप लगाया गया, बांधा गया और प्रताड़ित किया गया

आरोपी व्यक्तियों ने लड़कों को पकड़ लिया और उन पर पैसे चोरी करने का आरोप लगाया। उन्होंने उन्हें बांध दिया और उनके साथ क्रूर व्यवहार किया, जिससे वे सदमे में आ गए।

दुर्व्यवहार के चौंकाने वाले दृश्य

एक और परेशान करने वाला वीडियो दिखाता है कि लड़के जमीन पर औंधे मुंह लेटे हुए हैं और उनके हाथ उनकी पीठ के पीछे बंधे हुए हैं और पतलून नीचे खींची हुई है। एक आदमी ने बेरहमी से उनकी गुदा में हरी मिर्च रगड़ दी, जिससे उन्हें अत्यधिक दर्द हुआ और फिर उन्हें पीले रंग का तरल इंजेक्शन लगाने लगा।

पुलिस जवाब देती है और संदिग्धों को हिरासत में लेती है

भयावह वीडियो पुलिस के ध्यान में आया, जिसने त्वरित कार्रवाई की। कानून की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है और अधिकारियों ने कथित तौर पर इस जघन्य कृत्य में शामिल छह लोगों को हिरासत में लिया है।

सिद्धार्थनगर की घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया है और इसमें शामिल लड़कों का कल्याण अत्यंत चिंता का विषय है। बच्चों के खिलाफ क्रूरता और दुर्व्यवहार के ऐसे कृत्य घृणित हैं और त्वरित न्याय की मांग करते हैं। यह महत्वपूर्ण है कि समाज ऐसे अत्याचारों की निंदा करने के लिए एकजुट हो और हर बच्चे की सुरक्षा सुनिश्चित करे।

Leave a Comment