एमपी: धार्मिक नगरी सतना में मंदिर के कर्मचारियों ने 10 साल की बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार किया

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश के सतना में एक 10 वर्षीय लड़की के साथ मंदिर समिति के कुछ सदस्यों द्वारा कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किया गया। यौन हिंसा की घटना ने पूरे शहर को झकझोर कर रख दिया है। वहीं, पुलिस ने इस मामले में दो संदिग्धों को गिरफ्तार किया है.

यह घटना संभाग के मंदिरों के लिए मशहूर मैहर शहर की है। यह राज्य के लिए शर्मनाक है कि एक नाबालिग इतनी गंभीर स्थिति में खून से लथपथ मिली।

यौन उत्पीड़न, निजी अंगों को घायल किया गया

उसे तुरंत शहर के अस्पताल ले जाया गया जहां उसका इलाज चला। जानकारी के मुताबिक, लड़की के साथ यौन उत्पीड़न किया गया और आरोपियों ने उसके नाजुक शरीर पर दांतों से काटने के निशान छोड़ दिए, जबकि उसके प्राइवेट पार्ट्स को भी बुरी तरह से जख्मी कर दिया.

प्रारंभिक उपचार के बाद डॉक्टरों ने नाबालिग को बेहतर चिकित्सा सुविधा के लिए रीवा मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया।

POCSO अधिनियम के तहत दो पर मामला दर्ज

पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए दोनों आरोपियों को हिरासत में ले लिया, जिनकी पहचान रवि चौधरी और अतुल बधोलिया के रूप में हुई है. दोनों मंदिर समिति में कर्मचारी थे। आरोपियों पर 366, 376 पॉस्को के तहत मामला दर्ज कर पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है.

यह भी पढ़ें: पीडोफ़ाइल: जासूस स्टीफ़न हार्डी को नाबालिगों से दुर्व्यवहार का दोषी पाया गया

बताया जा रहा है कि बच्ची मैहर थाना क्षेत्र के अरकंडी बस्ती की रहने वाली है, जो बीते गुरुवार की दोपहर से लापता हो गई थी। जब वह घर नहीं लौटी तो उसका परिवार उसे आस-पास के इलाकों में ढूंढने गया।

बाद में वह शुक्रवार को दूल्हा देव इलाके में पाई गई जो उसके घर से एक किलोमीटर दूर था। जिसके बाद गुस्साई भीड़ अस्पताल की ओर बढ़ी जहां आला अधिकारी मौजूद थे और स्थिति नियंत्रण में रही.

घटना के बाद पुलिस भी संदिग्धों की गिरफ्तारी के लिए तुरंत हरकत में आ गई. वहीं पुलिस ने मामले में दोनों आरोपियों मैहर शारदा प्रबंधन समिति के कर्मचारी अतुल बढ़ौलिया और रवि चौधरी को गिरफ्तार कर लिया है, जिन पर धारा 366, 376 और पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया है.

Leave a Comment